);
बड़ी खट्टाली

सात वर्षीय उमेर खत्री ने रमजान का पहला रोजा रखा

बिलाल खत्री।बड़ी खट्टाली

बड़ी खट्टाली। इन दिनों पवित्र पर्व रमजान पर्व के चलते बड़े बुजुर्ग एवं युवाओं के साथ -साथ छोटे-छोटे बच्चे भी जोश व उत्साह के साथ रोजा रख खुदा की बंदगी कर रख रहे है छोटे-छोटे बच्चे भीषण गर्मी में भी रोजा रखने के साथ- पांच वक्त की नमाज अदा कर रहे हैं। उमेर खत्री पिता इस्माइल खत्री सात वर्षीय अल्लाह को राजी करने के लिए पहला रोजा रखा। दुआ भी मांगते है बच्चों ने शहरी व इफ्तार की यादों को साझा करते हुए बताया कि सहरी मैं उठना उन्हें अच्छा लगता है।जहां इस भीषण गर्मी में इंसान के लिए घंटे दो घंटे प्यासे रहना भी बडा मुश्किल हो रहा है वहीं मुस्लिम समाज के लोग इस भिषण गर्मी में भी रोजा रखकर खुदा की बंदगी का सबूत पेश कर रहे हैं। बड़े तो बड़े समाज के छोटे बच्चे भी इस भीषण गर्मी मे रोजा रख कर बंदगी ए खुदा की मिसाल पेश कर रहे है। ने अपने जीवन का पहला रोजा रखा। उमेर खत्री ने सुबहा 4 बजे सेहरी कर अपना पहला रोजा शुरू किया और दीन भर भुखी-प्यासी रहकर रोजा रखकर दिन भर खुदा की इबादत की शाम को 7:08 पर रोजा इफ्तार किया। चिलचिलाती धूप व भीषण गर्मी में मुस्लिम समाज की महिलाएं पुरुष के साथ नन्हे मुन्ने मासूम बच्चे भी रोजे रखकर नमाज व कुरान की तिलावत करते हुए खुदा की इबादत में मशगूल हैं।

Related Articles

error: Content is protected !!
Close